मौसम विभाग की ओर से जारी किए गए आगामी दो दिनों के ऑरेंज अलर्ट के बाद अब चक्रवर्ती तूफान ताऊते को लेकर जिला प्रशासन हाई अलर्ट मोड पर

चित्तौड़गढ़ से गोपाल चतुर्वेदी की रिपोर्ट

चित्तौड़गढ़ / चित्तौड़गढ़ जिले में मौसम विभाग की ओर से जारी किए गए आगामी दो दिनों के ऑरेंज अलर्ट के बाद अब चक्रवर्ती तूफान ताऊते को लेकर जिला प्रशासन हाई अलर्ट मोड पर है इसको लेकर प्रशासन की ओर से सभी तरह के सावधानियां बरती जा रही है वहीं जिला मुख्यालय की सभी कच्ची बस्तियों में निवास कर रहे लोगों को नगर परिषद की ओर से माइक के माध्यम से चक्रवर्ती तूफान से सावधान रहने के लिए सूचित किया जा रहा है

चित्तौड़गढ़ में कोरोना और ब्लैक फंगस के बाद अब एक और प्रकृति आपदा चक्रवाती तूफान ताऊते ने जिला प्रशासन की मुसीबतों को और बढ़ाने का काम किया है ऐसे में कोविड हॉस्पिटल एवं स्वास्थ्य केंद्रों पर आपात स्थिति की व्यवस्था बनी रहे इसके लिए जिला कलेक्टर ताराचंद मीणा और पुलिस अधीक्षक दीपक भार्गव ने एक्शन प्लान तैयार कर लिया है वहीं प्रशासन का मानना है कि आगामी दो दिनों में जिले मे अत्यंत सावधान रहने की आवश्यकता है चक्रवाती तूफान को लेकर जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक भी जिले के सभी आला अधिकारियों के साथ बैठकों में व्यस्त रहे हैं वही इसकी जानकारी देते हुए जिला कलेक्टर ताराचंद मीणा ने बताया कि चक्रवाती तूफान ताऊते को लेकर जिला स्तर पर कलेक्ट्री परिसर और नगर परिषद परिसर मे विभिन्न प्रकार की सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए एक नियंत्रण कक्ष स्थापित किये गए है जो 24 घंटे कार्य करेंगे उन्होंने बताया कि चक्रवाती तूफान के कारण बिजली व्यवधान के चलते चित्तौड़गढ़ में संचालित हो रहे दो ऑक्सीजन प्लांट में ऑक्सीजन का उत्पादन बाधित ना हो इसके लिए प्रशासन की ओर से समुचित व्यवस्था की गई है वही आसपास के कच्ची बस्ती क्षेत्र के निवासियों के लिए भी सावचेत रहने के लिए माइक के माध्यम से अनाउंसमेंट कराए गए हैं वहीं जिले के सभी आला अधिकारियों को भी अपने-अपने क्षेत्रों में अलर्ट रहने के लिए निर्देशित किया गया है