तालिबान को लेकर बयानबाजी करने वाले सावधानी बरतें; इम्पार

तालिबान को लेकर बयानबाजी करने वाले सावधानी बरतें; इम्पार

21 August 2021. New Delh तालिबान को लेकर बयानबाजी करने वालों से इम्पार के राष्ट्रीय अध्यक्ष और संचालित समिति के सदस्य डॉ एमजे खान ने अपील की है कि यह समय बहुत नाजुक है, इसलिए सावधानी बरतें और जिम्मेदारी का सबूत दे. श्री खान ने कहा कि इस पूरे मामले में हमें भारत सरकार के के पक्ष का इंतजार करना चाहिएI जब तक कोई सरकारी मत नहीं आ जाता है, तब तक हमें बयानबाजी से बचना चाहिए. डॉक्टर खान ने आगे कहा कि भारत ने हमेशा अफगानिस्तान की मदद की है, हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि भारत ने अफगानिस्तान में पार्लियामेंट से लेकर रोड स्वास्थ्य केंद्र और शिक्षण संस्थान बनाए हैं और अफगानिस्तान भारत दोनों लंबे समय से एक दूसरे के सहयोगी रहे हैI श्री खान ने आगे कहा कि पिछले कुछ दिनों में अफगानिस्तान में हुए अभूतपूर्व घटनाक्रम ने दुनिया को हैरान कर दिया है। स्थिति निश्चित रूप से चिंता का विषय है। तालिबान के साथ राजनयिक संबंधों पर फैसला हमारी सरकार देश के सर्वोत्तम हित में करेगी। परन्तु इम्पार समुदाय को सावधान करना चाहेगा, कि उसे अनावश्यक टिप्पणियों से बचना चाहिए। तालिबान इस्लाम का चेहरा नहीं हैं। समुदाय के कुछ राजनीतिक और धार्मिक नेताओं के हालिया बयान दुर्भाग्यपूर्ण, अनावश्यक और अपरिहार्य थे।अफ़सोस है कि हमारी मीडिया का एक धड़ा भी इस पर एकतरफा उकसाने जैसी रिपोर्टिंग कर रहा है जैसे हर मुद्दा सामाजिक ध्रुवीकरण का एक मौका हो चाहे देश को कोई भी कीमत देनी पड़ेी IMPAR को उम्मीद है कि तालिबान उचित कानून और व्यवस्था सुनिश्चित करेगा और सभी नागरिकों और विशेष रूप से महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यकों के जीवन और सम्मान की रक्षा करेगा। तालिबान के शुरुआती बयान सौभाग्य से काफी सकारात्मक, आश्वस्त करने वाले और जिम्मेदार हैं। हम आशा करते हैं कि अफगानिस्तान के लोगों को, जिन्होंने पिछले 42 वर्षों में अनकही पीड़ा झेली है, अशांति और विनाश से राहत मिलेगी। वे शांति और प्रगति के उतने ही पात्र हैं जितने कि ग्रह पर कोई अन्य व्यक्तिI IMPAR को उम्मीद है कि तालिबान अधिक जिम्मेदारी से व्यवहार करेगा और दुनिया अफगानिस्तान के लोगों के बेहतर भविष्य के लिए उनके साथ अधिक रचनात्मक रूप से जुड़ेगीI