बीजेपी और तालिबान दोनों की सोच एक जैसी: तारिक अनवर

बीजेपी और तालिबान दोनों की सोच एक जैसी: तारिक अनवर
लोगों को संसाधनों से जोड़ना दिल्ली प्रदेश क़ौमी तंज़ीम का लक्ष्य: हिदायतुल्ला जेंटल, क़ौमी तंज़ीम का इतिहास बताता है कि निरंतर संघर्ष को परिणामों में कैसे बदला जाए: तारिक सिद्दीकी
नई दिल्ली, 4 सितंबर: आल इंडिया क़ौमी तंज़ीम के राष्ट्रीय अध्यक्ष, कांग्रेस पार्टी के महासचिव और पूर्व केंद्रीय मंत्री तारिक अनवर ने आज यहां संवाददाताओं से कहा कि सांप्रदायिकता, चाहे वह अल्पसंख्यक की हो या बहुसंख्यक की, शांतिपूर्ण समाज के लिए दोनों जहर है। उन्होंने कहा कि तालिबान और भाजपा दोनों की सोच में कोई अंतर नहीं है। एक केवल मुसलमानों की बात करता है और मुस्लिम देश के लिए काम करता है, दूसरी ओर, भाजपा भारत के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने को तोड़कर, लोकतंत्र को नष्ट करके गांधी के चमन को हिंदू राष्ट्र बनाना चाहती है। तारिक अनवर ने कहा कि जो लोग स्वामी विवेकानंद के बारे में बात करते हैं वे भूल जाते हैं कि स्वामीजी वेदांत को मस्तिष्क और इस्लाम को शरीर मानते थे. इस पर उनका क्या मत है, उनको देश को बताना चाहिए। उन्होंने कहा कि नफरत के खिलाफ, प्रेम को बढ़ावा देने के लिए आज से 30 साल पहले 1986 में आल इंडिया क़ौमी तंज़ीम की नींव रखी गई थी।
उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास नफरत को रोकना और मोहब्बत पर लोगों को जमा करना है। उन्होंने कहा कि गांधी के देश में सभी का सम्मान होना चाहिए और स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि मैं इस भूमि से आता हूं जिसने सभी धर्मों के सताए हुए लोगों को शरण दिया है। नफरत फैलाने वालों को इसका जवाब देना चाहिए। तारिक अनवर ने कहा कि नारा दिया गया, सबका साथ, सब का विकास और सबकी विशवास का, लेकिन चंद दोस्तों को छोड़कर पूरा देश को बर्बाद किया जा रहा है. लोकतंत्र को जड़ से उखाड़ने का प्रयास किया जा रहा है और अभियान के रूप में बेरोजगारी को बढ़ावा दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देश बहुत ही नाजुक दौर से गुजर रहा है और लोगों को आगे आकर लोकतंत्र को बचाने के लिए निरंतर संघर्ष करना चाहिए। तारिक अनवर ने कहा कि क़ौमी तंज़ीम इस दिशा में काम कर रही है और हमने सदस्यता अभियान भी शुरू किया है, जो लोग प्यार के दम पर देश को एक साथ रखना चाहते हैं, उनका स्वागत है।
इस मौके पर दिल्ली प्रदेश क़ौमी तंज़ीम के अध्यक्ष हिदायतुल्लाह जेंटल ने कहा कि वह दिल्ली प्रदेश क़ौमी तंज़ीम के मंच से आम आदमी तक पहुंचेंगे. हम उनकी समस्याओं को जानेंगे, ताकि राष्ट्रीय अध्यक्ष तारिक अनवर के संरक्षण में इसे उठाया जाये ताकि, मूक-बधिर सरकार तक समाज के कमजोर लोगों की आवाज पहुंचाई जा सके. उन्होंने कहा कि क़ौमी तंज़ीम सरकारी और निजी दोनों तरह के लाभ लोगों को राहत देने के लिए पहुंचाएगी और समस्याओं को संसाधनों में बदलने का प्रयास करेगी। इस मौके पर उत्तर प्रदेश प्रोफेशनल कांग्रेस यूपी ईस्ट के अध्यक्ष मुहम्मद तारिक सिद्दीकी ने लोगों से क़ौमी तंज़ीम को मजबूत करने की अपील की. उन्होंने कहा कि जिस तरह से क़ौमी तंज़ीम ने टाडा के खिलाफ आवाज उठाई और इसे कांग्रेस सरकार को वापस लेना पड़ा, वह इस बात का उदाहरण है कि कैसे मुद्दों पर कड़ी मेहनत करके सफलता हासिल की जा सकती है। उन्होंने कहा कि बाबरी मस्जिद की शहादत के बाद क़ौमी तंज़ीम ने प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव को ताल कटोरा में बुला कर देश के न्यायप्रिय लोगों के गुस्से से अवगत कराया था, जिसके बाद उन्होंने बाबरी मस्जिद बनाने का वादा किया था. उन्होंने लोगों से निराश होने के बजाय साहस के साथ काम करने की अपील करते हुए कहा कि लोगों को अपने बच्चों को शिक्षा और प्रशिक्षण दोनों में शामिल करना चाहिए और लोगों को धर्म का पालन करने की सलाह देने से पहले खुद उस को अपनाना चाहिए। इस कार्यक्रम में आल इंडिया क़ौमी तंज़ीम के संगठन महासचिव और वतन समाचार के संपादक मुहम्मद अहमद, क़ौमी तंज़ीम हरियाणा के राजा अंसारी, डॉ. सैयद अहमद खान और रईस इदरीसी सहित बड़ी संख्या में लोगों ने भाग लिया।