कोलकाता के भवानीपुर विधानसभा सीट और मुर्शिदाबाद की जंगीपुर व शमशेरगंज विधानसभा सीटों पर गुरुवार को छिटपुट घटनाओं के बीच मतदान

कोलकाता सुनील : कोलकाता की हाई प्रोफाइल भवानीपुर विधानसभा सीट और मुर्शिदाबाद की जंगीपुर व शमशेरगंज विधानसभा सीटों पर गुरुवार को छिटपुट घटनाओं के बीच मतदान संपन्न हुआ। शाम पांच बजे के आंकड़ों के मुताबिक भवानीपुर में 53.32-फीसद और जंगीपुर व शमशेरगंज में क्रमश 76.12 व 78.60 फीसद वोट पड़े। राजनेता अक्सर निर्वाचन क्षेत्र को ‘मिनी भारत’ कहते हैं. गुजराती से लेकर पंजाबी, बंगाली से लेकर सिंधी, देश के अलग-अलग क्षेत्रों के लोग यहां रहते हैं. भबानीपुर की 40 प्रतिशत से अधिक आबादी गैर-बंगाली है, जो इस निर्वाचन क्षेत्र को सबसे अलग बनाती है. ममता का जन्म कालीघाट में हरीश चटर्जी स्ट्रीट स्थित घर में हुआ था और वो यहां से वोटर भी हैं. जोगमाया देवी कॉलेज से छात्र राजनीति में उन्होंने कदम रखा और फिर एक दशक तक विधायक के रूप में इस क्षेत्र के लोगों की सेवा की. शोभनदेव चटर्जी ने 2021 में भवानीपुर सीट से 57 प्रतिशत वोटों के साथ जीत हासिल की. इसके बाद उन्होंने ममता के यहां से चुनाव लड़ने के लिए इस्तीफा दे दिया. अनुभवी टीएमसी नेता और ममता के करीबी सहयोगी ने कहा कि भबानीपुर “मिनी इंडिया” है क्योंकि यहां ‘विविधता में एकता’ है. चटर्जी ने कहा, ‘हम इसका आनंद लेते हैं क्योंकि यहां हर वार्ड की अलग मांग है. हमारे निर्वाचन क्षेत्र में पार्क स्ट्रीट का एक हिस्सा और दूसरे वार्ड में गुजराती आबादी है. ममता 2011 के बाद से दो बार भवानीपुर से चुनाव लड़ चुकी हैं. साल 2011 में उन्होंने विधानसभा का उपचुनाव लड़ा था. दरअसल तब उन्होंने विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ा था, क्योंकि वो पार्टी के प्रचार अभियान की देखरेख में व्यस्त थीं. 2016 के चुनाव में ममता को लगभग 48 प्रतिशत वोट मिले थे. इससे पहले साल 2011 में उन्हें यहां 77.46 प्रतिशत वोट मिले थे   पश्चिम बंगाल में भबानीपुर समेत तीन सीटों पर आज कड़ी सुरक्षा के बीच विधानसभा का उपचुनाव हो रहा है। बृहस्पतिवार दोपहर 1 बजे तक इस सीट पर करीब 35.97  प्रतिशत मतदान हुआ। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की उम्मीदवार के तौर पर भबानीपुर से चुनाव लड़ रही हैं। बीजेपी उम्मीदवार प्रियंका टिबरेवाल ने टीएमसी पर चुनाव में गड़बड़ी का आरोप लगाया है।चुनाव आयोग के सूत्रों ने बताया कि मुर्शिदाबाद जिले की समसेरगंज सीट के लिए करीब 57.15 प्रतिशत और जंगीपुर सीट के लिए करीब 53.78 प्रतिशत मतदान हुआ। कड़ी सुरक्षा के बीच तीनों सीटों के लिए मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ था। इन तीनों सीटों पर कुल 6,97,164 मतदाता हैं। मतगणना दो अक्टूबर को की जाएगी। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी नंदीग्राम सीट से हार गई थीं। अब मुख्यमंत्री पद पर बने रहने के लिए उन्हें इस उपचुनाव में जीत हासिल करनी होगी। वहीं, दो उम्मीदवारों की मौत के बाद अप्रैल में जंगीपुर और समसेरगंज में चुनाव रद्द करना पड़ा था। मतदान शाम  तक जारी रहे।जोर आजमाइश- ममता बनर्जी का गृह क्षेत्र व परंपरागत सीट के चलते भवानीपुर वर्षो से हॉट सीट है। ममता के गढ़ में सेंध लगाने के लिए भाजपा ने पूरी ताकत झोंक रखी है। दीदी का गृह व परंपरागत सीट होने के चलते इसपर सभी की नजरें हैं। भवानीपुर विधानसभा सीट से तृणमूल कांग्रेस की उम्मीदवार व बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दोपहर करीब 3:00 बजे भवानीपुर के मित्रा इंस्टिट्यूशन में अपना वोट डाला। ममता हर बार इसी स्कूल में वोट डालती रहीं हैं। बता दें कि भवानीपुर विधानसभा क्षेत्र में ही ममता बनर्जी का आवास है अब देखना ये है, कि इसचुनाव में जीत का सेहरा किसको मिलाता है