देहरादून, उत्तराखंड में 30वे ”हुनर हाट” का उद्घाटन किया नकवी

मनोज टंडन/ब्यूरो देहरादून (उत्तराखंड), 29 अक्टूबर, “स्वदेशी” एवं “वोकल फॉर लोकल” के राष्ट्रीय ब्रांड, “हुनर हाट” का उद्घाटन आज देहरादून में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री एवं उपनेता, राज्यसभा श्री मुख्तार अब्बास नकवी की गरिमामई उपस्थिति में किया गया। श्री गुरु नानक पब्लिक गर्ल्स इंटर कॉलेज ग्राउंड (खुरबुरा), रेस कोर्स, देहरादून में 29 अक्टूबर से 7 नवम्बर 2021 तक चलने वाले इस “हुनर हाट” के उद्घाटन के अवसर पर उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री एवं लोकसभा सांसद श्री तीरथ सिंह रावत, विधायक एवं उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, लोकसभा सांसद श्रीमती माला राज्यलक्ष्मी शाह, राज्यसभा सांसद श्री नरेश बंसल, देहरादून के मेयर श्री सुनील उनियाल, ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, विभिन्न जनप्रतिनिधि, केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की सचिव श्रीमती रेणुका कुमार एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे। “हुनर हाट” के उद्घाटन के बाद अपने सम्बोधन में श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि, “हमारे देश में हुनरमंदों की कोई कमीं नहीं है। जो हुनरमंद एक लम्बे समय से अपने लिए बाजार-हाट ढूंढ रहे थे, “हुनर हाट” ने ऐसे सभी हुनरमंदों की प्रतिभा को मौका-मार्किट उपलब्ध कराया है।” श्री धामी ने कहा कि, “हुनर हाट” ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के “आत्मनिर्भर भारत” और “वोकल फॉर लोकल” के अभियान को और मजबूती दी है। “हुनर हाट” ने “उत्पाद को बाजार”, “बाजार को उत्पाद” उपलब्ध कराया है। श्री धामी ने कहा कि श्री नकवी के नेतृत्व में अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय, देश भर के दूर-दराज के क्षेत्रों के दस्तकारों, शिल्पकारों को प्रभावी मार्किट मुहैया करा रहा है। श्री धामी ने इस अवसर पर कहा कि, “खुद को मनवाने का मुझको हुनर आता है, मैं वह कतरा हूँ, समंदर मेरे घर आता है।“ इस अवसर पर विधायक एवं उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि “हुनर हाट” में हुनरमंद दस्तकार, शिल्पकार देश की पारम्परिक कला को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। इस अवसर पर लोकसभा सांसद एवं उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि “हुनर हाट”, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के “वोकल फॉर लोकल” के मिशन को मजबूत कर रहा है। “हुनर हाट” के उद्घाटन के अवसर पर श्री नकवी ने कहा कि “हुनर हाट”, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के “स्वदेशी-स्वावलंबन” और “वोकल फॉर लोकल” के अभियान को मजबूती देने के साथ-साथ स्वदेशी दस्तकारों, शिल्पकारों को रोजगार देने और उनके शानदार हस्तनिर्मित उत्पादों को बाजार मुहैया कराने का एक “प्रामाणिक प्लेटफॉर्म” साबित हुआ है। इस अवसर पर स्वतंत्रता सेनानियों के परिवारों को सम्मानित भी किया गया। देहरादून में आयोजित “हुनर हाट”, देश भर में आयोजित “हुनर हाटों” की श्रृंखला का 30वा “हुनर हाट” है जिसमें 30 से ज्यादा राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लगभग 500 दस्तकार, शिल्पकार, कारीगर अपने स्वदेशी हस्तनिर्मित उत्पादनों की प्रदर्शनी एवं बिक्री के लिए आये हैं। इस “हुनर हाट” में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान, दिल्ली, नागालैंड, मध्य प्रदेश, मणिपुर, बिहार, आँध्र प्रदेश, झारखण्ड, गोवा, पंजाब, लद्दाख, कर्नाटक, गुजरात, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, तमिलनाडु, केरल एवं अन्य क्षेत्रों से हुनर के उस्ताद कारीगर अपने साथ लकड़ी, ब्रास, बांस, शीशे, कपडे, कागज़, मिटटी आदि के शानदार उत्पाद लेकर आये हैं। देहरादून जेल के कैदियों द्वारा बनाए गए हस्तनिर्मित उत्पादन भी “हुनर हाट” में हैं। देश भर में आयोजित हो रहे “हुनर हाट” में “विश्वकर्मा वाटिका” में देश के शिल्पकारों, मूर्तिकारों, संगतराशों, लोहार, बढ़ई, माटी कला, स्वर्ण-कांस्य, कांच, ब्रास कला आदि जैसे सैंकड़ों परंपरागत कार्यों से लोग जीवंत रूबरू हो रहे हैं। देहरादून “हुनर हाट” में “कबाड़ से कमाल” को प्रोत्साहित करते हुए फेंक दिए जाने वाले लोहे, रबर, प्लास्टिक, कपडे, शीशे, पीतल, ताम्बा, सेरेमिक, लकड़ी आदि से निर्मित सामग्री, “हुनर हाट” आने वाले लोग देख और खरीद सकेंगें। देश के हर कोने के पारम्परिक विशिष्ट व्यंजनों का सेक्शन “बावर्चीखाना” में एक ही स्थान पर भारत के सभी प्रांतों के परंपरागत पकवान होंगें। इन पारम्परिक पकवानों में अवध, रामपुर, हैदराबाद, महाराष्ट्र, गोवा, बिहार, राजस्थान, नार्थईस्ट, ओडिशा, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, मैसूरु, केरल आदि के लज़ीज़ व्यंजनों का लोग जायका ले सकेंगें। देहरादून में आयोजित “हुनर हाट” में प्रतिदिन सांयकाल प्रसिद्द कलाकार जैसे कैलाश खेर, दलेर मेहदी, पंकज उधास, सुदेश भोंसले, विनोद राठौर, रेखा राज, रानी इन्द्राणी, प्रेम भाटिया, भूपिंदर सिंह भुप्पी, हमसर हयात जैसे जाने-माने कलाकार शानदार गीत-संगीत-ग़ज़ल के कार्यक्रम पेश करेंगें। पिछले लगभग 6 वर्षों में “हुनर हाट” के माध्यम से 5 लाख 60 हजार से ज्यादा दस्तकारों, शिल्पकारों, कारीगरों और उनसे जुड़े लोगों को रोजगार और रोजगार के अवसर मुहैया कराए गए हैं। “हुनर हाट” ई प्लेटफार्म http://hunarhaat.org के साथ ही GeM पोर्टल पर भी देश-विदेश के लोगों के लिए उपलब्ध है जहाँ लोग सीधे दस्तकारों, शिल्पकारों, कारीगरों के बेहतरीन स्वदेशी सामानों को देख-खरीद रहे हैं। “हुनर हाट” को ई प्लेटफार्म और GeM पोर्टल पर ले जाने के बहुत ही जबरदस्त परिणाम आये हैं, दस्तकारों, शिल्पकारों को बड़े पैमाने पर ऑनलाइन ऑर्डर मिल रहे हैं। देहरादून के बाद, 10 नवम्बर से ब्रज रज महोत्सव, वृन्दावन; 12 नवम्बर से 21 नवम्बर के बीच लखनऊ; 14 से 27 नवम्बर, प्रगति मैदान, नई दिल्ली; 26 नवम्बर से 5 दिसंबर तक हैदराबाद; 10 दिसंबर से 19 दिसंबर तक सूरत एवं 22 दिसंबर 2021 से 2 जनवरी 2022 तक नई दिल्ली में “हुनर हाट” का आयोजन होगा। इसके अलावा “हुनर हाट” का आयोजन मैसुरु, गुवाहाटी, पुणे, अहमदाबाद, भोपाल, पटना, पुडुचेरी, मुंबई, जम्मू, चेन्नई, चंडीगढ़, आगरा, प्रयागराज, गोवा, जयपुर, बेंगलुरु, कोटा, सिक्किम, श्रीनगर, लेह, शिलांग, रांची, अगरतला एवं अन्य स्थानों भी पर होगा।