क्या उत्तर प्रदेश चुनाव मे खेल होबे?

  जावेद हुसैन पत्रकार स्टार न्यूज़। जहाँ एक तरफ बीजेपी सत्ता मे मौजूद है और आने वाले उत्तर प्रदेश चुनाव मे अपनी सत्ता नही खोना चाहती वहीं दूसरी और तमाम विपक्षी पार्टी अपनी ताक़त दिखाने मे जुटि हुई हैं।वैसे तो सभी राजनीतिक विपक्षी दलों का मकसद केवल बीजेपी को हराना है लेकिन इन सभी दलों मे सपा यानी समाजवादी पार्टी सबसे बड़ी मुख्य विपक्षी पार्टी के तौर पर 2022 के चुनाव के लिए लड़ेगी।जैसा के सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एलान किया था की हम सिर्फ छोटे दलों से गठबंधन करेंगे। अभी हाल ही मे अपना दल के अध्यक्ष कृष्ण पटेल ने सपा के साथ हाथ मिलाने का एलान किया है इसी के साथ (आरएलडी) यानी राष्ट्रीय लोक दल का भी सपा के साथ जल्द गठबंधन हो सकता हे।सूत्रों के मुताबिक आब सपा और (आप) यानी आम आदमी पार्टी के गठबंधन की तैयारी चल रही है। इसी के साथ तृमूल कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा की अगर अखिलेश यादव को हमारी जरूरत है तो हम मदद के लिए तैयार हैं।अब जब बात सभी छोटे दलों की है तो भीम आर्मी कैसे पीछे रह सकती है भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद का भी सपा के साथ गठबंधन लगभग तय है।वही कांग्रेस और बसपा अकेले चुनाव लड़ने के लिए पूरी मशक़्क़त के साथ जुटी हुईं हैं। अब सवाल ये है की क्या बीजेपी दुबारा सत्ता का ताज पहन पायेगी या विपक्षी दल मिलकर खेला करदेंगे।आखिर किन मुद्दों को लेकर बीजेपी चुनाव मे उतरेगी और कौन अगला चेहरा मुख्यमंत्री के लिए होगा या योगी के मुख्यमंत्री चेहरे के तौर पर चुनाव लड़ा जायेगा।अब देखना ये है की क्या सपा का गठबंधन वाला फॉर्मूला मैदान फतेह कर पायेगा।