Headlines

पूर्व मंत्री आज़म खा की आय से अधिक संपत्ति की जांच का मामला गर्माया।

पूर्व मंत्री आज़म खा की आय से अधिक संपत्ति की जांच का मामला गर्माया।

25 जुलाई 2018: हवाला के रूपयो को खपाने के लिए अपने कार्यकर्ताओं के नाम से चंदे की फ़र्ज़ी रसीदें काटी हैं ? आयकर विभाग करेगा जौहर ट्रस्ट को चंदा देने वालों की जांच।

सहकारी बैंक से करंसी एक्सचेंज करने, सांसद पत्नी तंज़ीम फातमा, सांसद मुनव्वर सलीम और आज़म खा की विधायक निधि का अस्सी प्रतिशत पैसे जौहर यूनिवर्सिटी में लगाने सहित आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने की जांच आयकर विभाग से होगी।

कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाव के प्रदेश उपाध्यक्ष फैसल खा लाला ने बताया कि हमने आज़म खा की आय से अधिक संपत्ति की जांच के संबंध में साल 2016 में शिकायत दर्ज कराई थी उक्त मामले में अब अपर निदेशक आयकर विभाग की ओर से जांच शुरू करते हुए हम से शिकायत के संबंध में और भी दस्तावेज़ मांगे गए हैं ताकि जल्द से जल्द प्रभावी कार्यवाही हो सके। फैसल लाला ने कहा कि मैं आज़म खा की आय से अधिक संपत्ति के संबंध में जल्द आयकर विभाग को और महत्वपूर्ण दस्तावेज़ उपलब्ध करारूगा।

विदित हों कि साल 2016 में नोट बंदी के वक्त आज़म खा ने जौहर यूनिवर्सिटी परिसर में स्थित ज़िला सहकारी बैंक की शाखा से अपना काला धन सफ़ेद किया था उक्त मामले की शिकायत आरबीआई के गवर्नर से की गयी थी जिसके बाद आरबीआई ने देशभर में ज़िला सहकारी बैंक से कैश करंसी बदलने पर रोक लगा दी थी।

जौहर ट्रस्ट को अब तक जिन लीगों ने चंदा दिया है उन लोगों की जांच होना चाहिए कि क्या उन लोगों की इतनी आय थी कि वह जौहर ट्रस्ट को लाखों करोड़ों का चंदा दे सकें या फिर आज़म खा ने हवाला के रुपयों खपाने के लिए अपने कार्यकर्ताओं के नाम से चंदे की फ़र्ज़ी रसीदें काटी हैं।

आज़म खा की पत्नि की सांसद निधि, मुनव्वर सलीम की सांसद निधि सहित आज़म खा की विधायक निधि का लगभग अस्सी प्रतिशत रूपया प्राइवेट जौहर यूनिवर्सिटी हमसफ़र रिज़ोर्ट और उसके आस-पास लगाय था।

आज़म खा ने सरकारी-गैर सरकारी ज़मीनों पर कब्ज़ा कर अरबों की बैनामी संपत्ति अर्जित की है।

मामले में अब आयकर विभाग की ओर से जांच शुरू की गयी है।

HTML Snippets Powered By : XYZScripts.com