Headlines

उर्दू भाषा के विकास पर परिचर्चा, लोगों  ने रखी अपनी राय

उर्दू भाषा के विकास पर परिचर्चा, लोगों  ने रखी अपनी राय
आमस (गया)
स्टार न्यूज़ टुडे- 
 
प्रखण्ड के हमज़ापुर में संचालित जीनियस किड्स गैलेक्सी स्कूल के प्रांगण में रविवार को अवामी उर्दू निफ़ाज कमिटी के बैनर तले उर्दू भाषा के विकास पर परिचर्चा का आयोजन सूबे के मशहूर उर्दू शायर नावक़ हमज़ापुरी की अध्यक्षता में किया गया. जहाँ नावक़ हमज़ापुरी ने कहा कि उर्दू हमारी जबान (भाषा) ही नहीं बल्कि हमारी मुकम्मल तहज़ीब भी है. अगर ज़बान मिट गयी तो हमारी तहज़ीब भी मिट जाएगी. वहीं इस मौके पर मौजूद बतौर मुख्यअतिथि डॉ एस० रजाउल्लाह ने कहा कि उर्दू महज मुसलमानों की जबान नहीं बल्कि यह समूचे हिंदुस्तान की जबान है. आगे उन्होंने कहा कि यह भाषा केवल ग़ालिब, मोमिन और मीर कि नहीं बल्कि प्रेमचंद, चकबस्त और बेदी की भी भाषा है. मंच का संचालन कर रहे सामाजिक कार्यकर्ता इमरान अली लोगों से मुखातिब होकर कहा कि उर्दू भाषा हमारे समाज से निकलती जा रही है जिसे बचाने के लिए एक खास मुहिम की ज़रूरत है. गौरतलब है कि इस मौके पर मुफ़्ती ऐमन बारी, मुफ़्ती इश्तेयाक अहमद, कारी क़ुतुबुद्दीन, नसीमुद्दीन सिद्दीक़ी, मौलाना इम्तेयाज़, सोहराब खान, इशराक़ हमज़ापुरी, हाजी अबु अरीबा, रूमान बदर आदि ने सभा को सम्बोधित करते हुये उर्दू भाषा के विकास पर जोर डाला और उक्त कमिटी की प्रशंसा की.
 निजी स्कूलों में भी होगी उर्दू भाषा की पढ़ाई
अवामी उर्दू निफ़ाज कमिटी शेरघाटी इकाई के बैनर तले परिचर्चा में मुख्य रूप से मदरसों व निजी स्कूलों के संचालकों को आमंत्रित किया गया जहाँ नसीमुद्दीन सिद्दीक़ी, मो0 आदिल, हारून रशीद, नवाब आरज़ू, कैफ़ी खान, मो0 नासिममुद्दीन, मो0 अली आदि ने स्वेच्छा से कहा कि अब हमारे स्कूलों में उर्दू पढ़ने वाले इच्छुक विद्यार्थियों को उर्दू भाषा अवश्य पढ़ाया जाएगा. उक्त कमिटी के अध्यक्ष जमशेद अशरफ़ ने बताया कि इस मौके पर मदरसों, निजी स्कूलों के संचालकों के अलावा शादाब, मो0 कलामुद्दीन, शादाब मंजर, इमरोज़ अली, गुफरान सैफ, अरबाब आलम, सहाब आलम, शादाब अनवर हाफ़िज ओसामा, हाफिज अलकमा आदि लोगों को सम्मानित किया गया. इस अवसर पर हाजी ज़हीर अनवर, फरीद अहमद, निज़ामी खान, मोहैब अकरम समेत सैंकड़ों लोग मौजूद रहे.