Headlines

आदमी को चाहिये वक़्त से डर कर रहे…संकल्प रैली में आक्रामक तेवर में नजर आए नरेंद्र मोदी ।

आदमी को चाहिये वक़्त से डर कर रहे…संकल्प रैली में आक्रामक तेवर में नजर आए नरेंद्र मोदी ।
अशरफ़ अस्थानवी
आदमी को चाहिये वक़्त से डर कर रहे- न जाने किस घड़ी वक़्त का बदले मिजाज़…जी हां ये पंक्ति पटना में आयोजित संकल्प रैली पर सटीक बैठती है। पटना में आयोजित एनडीए की संकल्प रैली में अपेकक्षाकृत भीड़ नहीं जुटी । यदि जदयू के कार्यकर्ता भारी संख्या में भाग न लेते तो रैली फ्लॉप होती । भाजपा के नेताओं ने अपने स्तर से भीड़ जुटाने का अथक प्रयास किया लेकिन आम लोगों की भागीदारी कम रही । एक युवा साहित्यकार सोमू आनंद का कहना है कि…वर्ष 2015 की बात है। बिहार विधानसभा के लिए चुनाव प्रचार चल रहा था। आरा की रैली में प्रधानमंत्री जी ने बिहार को सवा लाख करोड़ के विशेष पैकेज की घोषणा की थी। आरा के बाद उनकी रैली सहरसा में थी। मोदी जी पहुंचे भी नहीं थे और तेज बारिश होने लगी। इतनी बारिश हुई कि पटेल मैदान में पानी जमा हो गया। लोगों के जूते-चप्पल पानी में थे लेकिन भीड़ भागी नहीं। लोग डटे रहे, भींगे, भींगते रहे और मोदी जी का पूरा भाषण सुना। आज गांधी मैदान में एनडीए की संकल्प रैली में मोदी जी ने बोलना शुरू किया और बारिश होने लगी। बहुत तेज नहीं। लेकिन लोग भागने लगे। बड़ी संख्या में लोग गांधी मैदान से बाहर निकल भींगने से बचने की जुगत में लग गए। बड़ा संदेश है। सीटें जितनी आ जाये लेकिन मोदी मैजिक अब बरकरार नहीं है। 4 साल से भी कम अंतराल में मीटर कहाँ से कहाँ आ गया।
मौसम खराब रहने और हल्की वर्षा के कारण भीड़ में अफरा तफरी मच गई, जैसे ही प्रधानमंत्री संबोधन के लिए खड़े हुए बारिश होने लगी । प्रधानमंत्री ने मैथिली, मगही और भोजपुरी भाषा में जनता का अभिवादन किया, बिहार के कई महान पुरुषों को भी याद किया लेकिन मुस्लिम समुदाय के किसी एक भी महान पुरुष का नाम लेना उन्होंने उचित नहीं समझा, उन्होंने स्पष्ट रूप से चेतावनी देते हुए कहा कि देश के दुश्मनों से चुन चुन कर हिसाब लेंगे और अपने दुश्मनों को किसी भी हाल में नही बख्शेंगे । उन्होंने विपक्षी पार्टियों पर करारा हमला करते हुए कहा कि देश की 21 विपक्षी पार्टियां निंदा प्रस्ताव पारित कर रही थीं, देश का कोई भी आदमी उन्हें माफ नही करेगा । प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे जवानों के पराक्रम पर संदेह किया जा रहा है, पहले जैसे सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मंगा जा रहा था अब हवाई हमले का भी सबूत मंगा जा रहा है । उन्होंने कोंग्रेस और उसके सहयोगी दलों से कहा कि वे हमारे वीर जवानों का मनोबल तोड़ने में क्यों लगे हैं, अब भारत वीर जवानों के बलिदान पर चुप नहीं बैठेगा, चुन चुन का हिसाब लेगा । उन्होंने नीतीश सरकार की प्रशंसा की ।
       मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पुलवामा हमले में प्रधानमंत्री के तत्वरित करवाई की प्रशंसा की और कहा कि बिहार के तमाम घरों में अब बिजली पहुँच रही है और लालटेन युग का अंत हुआ ।