Headlines

चुनाव आयोग की शाम 5 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस, लोकसभा चुनावों की तारीखों की हो सकती है घोषणा

चुनाव आयोग की शाम 5 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस, लोकसभा चुनावों की तारीखों की हो सकती है घोषणा
नई दिल्ली से(जियाउद्दीन अहमद अली सिद्दीकी)संवाददाता की रिपोर्ट आम चुनाव की घोषणा का इंतजार खत्म हो गया है निर्वाचन आयोग आज लोकसभा चुनाव कार्यक्रम की घोषणा करेगा लोकसभा चुनाव अप्रैल-मई में सात से आठ चरणों में होने की संभावना है आयोग यहां विज्ञान भवन में शाम पांच बजे एक संवाददाता सम्मेलन करेगा मौजूदा लोकसभा का कार्यकाल तीन जून को समाप्त होना है चुनाव कार्यक्रम की घोषणा में ही आदर्श आचार संहिता लागू हो जाएगी
लोकसभा चुनाव के साथ आंध्र प्रदेश सिक्किम ओडिशा और अरुणाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान भी हो सकता है हालांकि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव लोकसभा के साथ ही होंगे या नहीं। सूत्रों के मुताबिक 7-8 चरणों में लोकसभा चुनाव कराए जा सकते हैं
मौजूदा लोकसभा का कार्यकाल तीन जून को समाप्त हो रहा है चुनाव की तारीखों की घोषणा के बाद अगले सप्ताह पहले और दूसरे चरण के मतदान के लिए चुनाव पर्यवेक्षकों की बैठक होगी चुनाव आयोगविज्ञान भवन में शाम पांच बजे एक संवाददाता सम्मेलन करेगा चुनाव कार्यक्रम की घोषणा में ही आदर्श आचार संहिता लागू हो जाएगी
सूत्रों के अनुसार पहले चरण के मतदान के लिए अधिसूचना मार्च के अंत तक जारी हो सकती है और इसके लिए शर्त अप्रैल के पहले सप्ताह में होने की संभावना है मई के तीसरे सप्ताह में मतगणना हो सकती है। पूरी संभावना है कि आयोग पुरानी परंपरा की तरह आंध्र प्रदेश ओडिशा सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव भी लोकसभा चुनाव के साथ करा सकता है। जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग हो चुकी है, इसलिए आयोग मई में समाप्त हो रहे छह महीने की अवधि के अंदर यहां भी नए सिरे से चुनाव कराने के लिए बाध्य है एक राय है कि जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनाव लोकसभा चुनाव के साथ होंगे, लेकिन भारत-पाकिस्तान सीमा पर तनाव बढ़ने के कारण राज्य के जटिल सुरक्षा हालात को मद्देनजर रखते हुए ही फैसला किया जाएगा
बीजेपी के प्रचार की कमान पीएम नरेंद्र मोदी ही संभालेंगे पार्टी पीएम के चेहरे पर ही 2014 के बाद से लगभग सभी चुनाव लड़ी है मोदी पार्टी के प्रमुख पहलू होंगे 2014 में मोदी लहर के कारण 30 साल बाद किसी पार्टी को पूर्ण बहुमत मिला था इसबार भी बीजेपी मोदी के चेहरे करिश्मी और काम गिनाकर चुनाव मैदान में उतर रही है
बीजेपी शेफ अमित शाह ने 2014 के आम चुनाव में अपनी अनुकूल नेतृत्व क्षमता दिखाते हुए यूपी में पार्टी को बड़ी जीत दिलाई थी इस बार भी अमित शाह पर पीएम नरेंद्र मोदी के बेहतर प्रदर्शन का दबाव रहेगा। बीजेपी चीफ पिछले एक साल से पूरे देशभर का दौरा कर रहे हैं
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी इस बार पूरी तैयारी के साथ मैदान में हैं इसके अलावा मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राज्य विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत के बाद राहुल का मनोबल काफी ऊंचा है। वह लगातार पीएम मोदी को निशाने पर ले रहे हैं सोनिया गांधी की जगह पार्टी के अध्यक्ष बनाए गए राहुल के नेतृत्व में यह पहला लोकसभा चुनाव होगा
यूपी की पूर्व सीएम और बीएसपी चीफ मायावती की पार्टी के प्रदर्शन पर भी सबकी निगाहें होंगी। पिछले लोकसभा चुनाव में बीपीपी की यूपी में खाता भी नहीं खुल पाया था। इस बार पार्टी ने राज्य में बीजेपी को रोकने के लिए एसपी के साथ गठबंधन किया है देखने वाली बात होगी कि मायावती का करिश्मा इस बार कैसे काम करता है
एसपी चीफ अखिलेश यादव इस बार अपने जीवन के सबसे महत्वपूर्ण चुनाव का नेतृत्व कर रहे हैं 2014 के चुनाव में पार्टी ने यूपी में केवल 5 सीटों पर जीत दर्ज की थी। इस बार अखिलेश ने राज्य में बीजेपी को रोकने के लिए बीपीपी से गठबंधन किया है। देखने वाली बात होगी कि दोनों दल का प्रदर्शन कैसा रहता है
पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन का चेहरा बनने की कोशिश में लगे हैं। वह लगातार पीएम मोदी का सबसे प्रमुख विरोध कर रहे हैं। ममता ने हाल में कोलकाता में विपक्ष की एक बड़ी रैली की थी जिसमें 22 दलों के नेता शामिल थे इस बार बीजेपी भी बंगाल में अपना दमखम लगाई हुई है। देखने वाली बात होगी कि इस बार दीदी के नाम से प्रसिद्ध ममता की पार्टी टीएमसी कैसा प्रदर्शन करती है
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में प्रियंका गांधी को पार्टी का महासचिव बनाया था और उन्हें पूर्वी यूपी का कार्यभार सौंपा था इससे पहले प्रियंका केवल रायबरेली और अमेठी में ही सक्रिय रही थीं इस बार कांग्रेस को उम्मीद है कि प्रियंका यूपी में अपने करिश्माई नेतृत्व से पार्टी की नैया पार लगा सकती हैं