Headlines

उच्च शिक्षा के लिए तमिलनाडु बेहतर स्थान

उच्च शिक्षा के लिए तमिलनाडु बेहतर स्थान
चेन्नई से(जियाउद्दीन अहमद अली सिद्दीकी)संवाददाता की रिपोर्ट चेन्नई राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने कहा तमिलनाडु देश में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए एक प्रतिष्ठित स्थान है। राज्य में विश्वविद्यालयों द्वारा पढ़ाए जाने वाले अलग-अलग पाठ्यक्रमों के अलावा देश के बाकी हिस्सों की तुलना में कॉलेज से पास होने वाले यहां के छात्रों की संख्या लगभग दुगुनी है तमिलनाडु के विश्वविद्यालयों में लगभग 8.86 लाख छात्र हर साल पास होते हैं। इस प्रकार उच्च शिक्षा के लिए यहां की आधारभूत संरचना और मैनपावर राज्य और देश के लिए एक बड़ी ताकत बनकर उभरी है
राज्यपाल आवड़ी स्थित वेलटेक रंगराजन डॉ. शकुंतला आरएंडडी इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी में वेलटेक टेक्नोलॉजी इन्क्यूबेटर द्वारा आयोजित सेंटर ऑफ एक्सीलेंस ऑफ मैन्युफेक्चरिंग के उद्घाटन के अवसर पर संबोधित कर रहे थे समारोह का उद्घाटन मुख्य अतिथि उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित एवं अन्य के साथ दीप प्रज्वलित कर वेलटेक रंगराजन डॉ. शकुंतला आरएंडडी इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस ऑफ मैन्युफेक्चरिंग का उद्घाटन किया
पुरोहित ने कहा अगले पांच वर्षों में हाईटेक और इनोवेशन ड्रिवेन एंटरप्राइजेज विकसित करने के उद्देश्य से भारत सरकार की सहायता के लिए सेंटर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना की गई है मुझे यकीन है सेंटर ऑफ एक्सीलेंस अपने उद्देश्य को पूरा करेगा और ऐसी कार्य योजना तैयार करेगा जो हमें सफलता की ओर ले जाए भारत का वैश्विक स्तर पर शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण स्थान है। हमारे देश में 850 विश्वविद्यालय और 42,026 कॉलेजों के साथ दुनिया में उच्च शिक्षा संस्थानों का सबसे बड़ा नेटवर्क है
इस मौके पर उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने कहा विद्यार्थियों को रोजगार योग्य बनाने के उद्देश्य से अकादमी-उद्योग के बीच अधिक सम्पर्क सुनिश्चित करने के लिए शिक्षा प्रणाली को नया रूप दिया जाना चाहिए उन्होंने कहा सरकार, शिक्षा जगत तथा उद्योग को शिक्षा प्रणाली को नया रूप देने के लिए एक साथ काम करना चाहिए, ताकि शिक्षण संस्थानों से उतीर्ण होकर निकले विद्यार्थी रोजगार या स्व-रोजगार योग्य हो सकें
इससे पहले नायडू विश्वविद्यालय के निधि-सीईओ लैब देखी उन्होंने कहा पूरे विश्व में बिजनेस इंक्यूबेशन को आर्थिक विकास तथा रोजगार सृजन के लिए महत्वपूर्ण औजार माना गया है नवाचार इंक्यूबेशन तथा स्टार्ट-अप आज विश्व में देशों और समाजों में सभी की जुबान पर हैं
ज्ञान केन्द्रित तथा टेक्नोलॉजी प्रेरित देश व समाज में वैश्विक अर्थव्यवस्था में बढ़ती भूमिका निभाएंगे उपराष्ट्रपति ने कहा भारत में अभी अवसर का लाभ उठाने तथा नवाचार और टेक्नोलॉजी आधारित उद्यमिता को प्रोत्साहित करने का समय है उन्होंने संस्थान में शोधपूर्ण शिक्षण तथा शिक्षा व्यवहारों की सराहना की साथ ही कहा कि नवाचार और उद्यमिता दोहरे इंजन हैं जो भारत को आर्थिक समृद्धि तथा सामाजिक समावेश के युग में ले जाएंगे