देश ही नही एशिया व अफ्रीका मे भी और बदतर हालातो से जूझेगी मीडिया व ईमानदार पत्रकार!! 

देश ही नही एशिया व अफ्रीका मे भी और बदतर हालातो से जूझेगी मीडिया व ईमानदार पत्रकार!! 
राकेश पाण्डेय
रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स या रिपोर्टर्स सां फ्रांतिए (आरएसएफ़) दुनिया की जानी-मानी संस्था है, यह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पत्रकारिता की स्वतंत्रता की स्थिति पर सालाना रिपोर्ट जारी करती है। इस साल की रिपोर्ट से देश ही नही पूरे एशिया व अफ्रीका महाद्वीप के देशों मे इमानदार पत्रकारो के लिए कठिन चुनौती घटने की बजाय बिकराल होती जा रही है।
देश मे इसी साल मारे गये आधा दर्जन पत्रकार
भारत पिछले साल के मुक़ाबले दो पायदान नीचे गिरा है, भारत 138वें नंबर से खिसककर 140वें स्थान पर आ गया है, 2017 में भारत 136वें स्थान पर था यानी यह लगातार हो रही गिरावट है।रिपोर्ट बताती है कि 2018 में भारत में कम-से-कम छह से बारह पत्रकार अपना काम करने की वजह से मारे गए।
चुनाव मे पत्रकारो पर आक्रामक है मोदी समथर्क
आरएसएफ़ का निष्कर्ष है, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थक चुनाव से पहले पत्रकारों के ख़िलाफ़ बहुत आक्रामकता दिखा रहे हैं। हिंदुत्व के समर्थक राष्ट्रीय बहसों से उन सभी विचारों को मिटा देना चाहते हैं जिन्हें वे राष्ट्र विरोधी मानते हैं.”
कानूनी इस्तेमाल से कलम को कुंद करने का प्रयास
पत्रकारों की आवाज़ दबाए जाने के बारे में रिपोर्ट कहती है, “सरकार की आलोचना करने वाले पत्रकारों के खिलाफ़ आपराधिक मामले दर्ज किए जाते हैं, कुछ मामलों में तो राजद्रोह का केस दर्ज किया जाता है जिसमें आजीवन कारावास की सज़ा हो सकती है.”
देश सहित यूपी मे पत्रकारो को निशाना बनाना खिलवाड़
रिपोर्ट में कहा गया है, “उन पत्रकारों के ख़िलाफ़ सोशल मीडिया पर संगठित तरीक़े से नफ़रत का अभियान चलाया जाता है जो ऐसे विषयों को उठाने की हिम्मत करते हैं जिनसे हिंदुत्व के समर्थकों को चिढ़ है. कई बार तो पत्रकारों को जान से मारने की धमकी दी जाती है. अगर पत्रकार महिला हो तो हमला और भी बुरा होता है.”
महिला पत्रकारो की दुर्दशा का भी नही पुरुसाहाल
महिला रिपोर्टरों की हालत पर भी संस्था ने गहरी चिंता जताई है, रिपोर्ट में कहा गया है, “#metoo के ज़रिए पता चला है कि महिला पत्रकारों को अपने दफ़्तर में किस तरह के माहौल में काम करना पड़ता है.”
कश्मीर मे तो और ही नाजुक है रिपोर्टर्स के हाल
रिपोर्ट मे  यह भी साफ कहा गया है कि जिन क्षेत्रों को सरकार ने संवेदनशील घोषित कर दिया है, वहां से रिपोर्टिंग करना बेहद मुश्किल है. रिपोर्ट ने ख़ास तौर पर कश्मीर का ज़िक्र किया है, “विदेशी पत्रकारों के कश्मीर जाने पर रोक लगा दी गई है और वहां इंटरनेट अक्सर बंद कर दिया जाता है.”
आतंकी,पुलिस,नेता,गुण्डे,सब खाये है पत्रकारो से खार
भारत में पत्रकारों के विरुद्ध सामान्य हिंसा के बारे में रिपोर्ट में कहा गया कि “पुलिस, माओवादी, अपराधी और भ्रष्ट राजनेताओं की हिंसा का सामना पत्रकारों को करना पड़ता है जिसकी वजह से वे आज़ादी से काम नहीं कर पाते.”।
अन्य देशों में मे कैसा है पत्रकारो का हाल
प्रेस फ़्रीडम इंडेक्स नॉर्वे पहले नंबर पर है, पहले दस देशों में ज़्यादातर उत्तरी यूरोप यानी स्कैंडेनेविया के हैं, इनमें न्यूज़ीलैंड और कनाडा भी काफ़ी ऊपर है. पत्रकारिता की स्वतंत्रता के मामले में भारत पड़ोसी देशों नेपाल (106) और श्रीलंका (126) से भी नीचे है.
प्रेस फ्रीडम मे नेपाल के पत्रकारों का अच्छा है हाल
प्रेस फ़्रीडम इंडेक्स नॉर्वे पहले नंबर पर है, पहले दस देशों में ज़्यादातर उत्तरी यूरोप यानी स्कैंडेनेविया के हैं, इनमें न्यूज़ीलैंड और कनाडा भी काफ़ी ऊपर है. पत्रकारिता की स्वतंत्रता के मामले में भारत पड़ोसी देशों नेपाल (106) और श्रीलंका (126) से भी नीचे है।
मीडिया की स्वतंत्रता मे एशिया, अफ्रीका फेल,यूरोप शिखर पर
अगर पाकिस्तान से तुलना करें तो वह भारत से सिर्फ़ दो पायदान नीचे, 142वें नंबर पर है. ब्रिटेन 33वें नंबर पर और अमरीका 48वें नंबर पर है।प्रेस स्वतंत्रता के हिसाब से पहले दस देशों में एशिया या अफ़्रीका का एक भी देश नहीं है, ज़्यादातर देश यूरोप के हैं. सीरिया, सूडान, चीन, इरीट्रिया, उत्तर कोरिया और तुर्कमेनिस्तान अंतिम पांच में हैं।