Headlines

हेपेटाइटिस-बी वायरस से निपटने में मदद के लिए समाज का साथ जरूरी: नड्डा

देश को अगले एक दशक में हेपेटाइटिस-बी वायरस से मुक्त करने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को यूनिसेफ के साथ मिलकर एक मीडिया कैंपेन लॉन्च किया. इसके साथ ही गोवा, गुजरात और कर्नाटक सहित देश के दूसरे हिस्सों में सफलता के बाद महाराष्ट्र में सरकार ने हेपेटाइटिस-बी टीकाकरण अभियान की भी शुरुआत की.

इस मौके कैंपेन के गुडविल एंबेसडर और बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन भी मौजूद थे. कार्यक्रम के दौरान बोलते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेडी नड्डा ने कहा, ‘हेपेटाइटिस-बी जैसी खतरनाक बीमारी से निपटने में मदद के लिए समाज ही मुख्य तत्व है. हम यह सुनिश्चि‍त करेंगे कि हेपेटाइटिस के खात्मे के बाद दूसरी अन्य दूर होने वाली बीमारियां भी खत्म हो जाए.’

एक आकलन के मुताबिक मौजूदा समय में देश में करीब 4 करोड़ HBV ग्रसित लोग हैं. यही नहीं, हर साल जन्म लेने वाले 2.6 करोड़ बच्चों में से करीब 10 लाख को जीवन में कभी भी क्रोनिक एचबीवी संक्रमण का खतरा रहता है. स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि एचबीवी के टीके को सरकार ने राष्ट्रीय सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल किया है. मंत्री ने आगे कहा कि जल्द ही मौजूदा इंद्रधनुष टीकाकरण अभियान से चार और टीकों को जोड़ा जाएगा.

उम्मीद है पोलियो से कम समय में होगा उन्मूलन
समारोह के दौरान अमिताभ बच्चन ने कहा, ‘भारत में हेपेटाइटिस के उन्मूलन में पोलिया उन्मूलन के मुकाबले कम समय लगना चाहिए. पोलिया के लिए सरकार और यूनिसेफ ने 10 साल तक लगातार प्रयास किया था.’ बच्चन ने कहा कि इस ओर कैंपेन के जरिए जागरुकता फैलाने के लिए कैंपेन और फील्ड में कार्यकर्ताओं द्वारा लगातार प्रयास किए जाने की जरूरत है.
हेपेटाइटिस रोग के बारे में बताते हुए यूनिसेफ के लुइस अर्सेनॉल्ट ने कहा कि यह बीमारी लीवर पर बुरा प्रभाव डालती है और फिर समय के साथ इंसान की मौत हो जाती है.