जमीयत उलेमा हिंद बिना किसी धार्मिक भेदभाव के दंगो में जलाए गए मकानों के निर्माण एवम् मरम्मत करवाएगी:- मौलाना अरशद मदनी 

दिल्ली दंगा पूर्णतः सुनियोजित था:- मौलाना अरशद मदनी (अध्यक्ष, जमीयत उलेमा हिंद)

नई दिल्ली:- दिल्ली दंगो के बाद जमीयत उलेमा हिंद के राहत कार्यों का जायजा लेने पहुंचे मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि दिल्ली दंगे पूर्णतः सुनियोजित थे और अभी तक दंगा पीड़ित लोग दंगो के खौफ से बाहर नहीं निकल पाए है. मौलाना मदनी ने कहा कि इस दंगे से हिन्दुस्तान की गंगा जमुनी संस्कृति को नष्ट करने का कुत्सित प्रयास था लेकिन हम ऐसा होने ना देगे. मौलाना मदनी ने कहा कि जमीयत दंगा प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्यों में अनवरत लगी है और पूरे क्षेत्र का दौरा करने के बाद जमीयत ने ये निर्णय लिया है कि वो बिना किसी धार्मिक भेदभाव के दंगा पीड़ित नागरिकों के जलाए गए मकानों की मरम्मत करवाएगी इस दौरान जमीयत हर दंगा पीड़ित नागरिकों को खान पान से लेकर कानूनी मदद भी मुहैया कराएगी.

मौलाना मदनी ने कहा कि दिल्ली दंगे हिन्दू मुस्लिम संस्कृति में मानवता विरोधी व्यक्तियों द्वारा जहर घोलने का नतीजा है और ये पूर्णतः सुनियोजित था। मौलाना मदनी ने कहा कि दंगो को लेकर सरकार का रवैया बहुत दुखद रहा क्योंकि जिन्होंने ये जहर बोया वो आज भी खुले में घूम रहे हैं। मौलाना मदनी ने कहा कि दंगो में सरकारी तंत्र की भूमिका बेहद शर्मनाक रही और विशेषकर पुलिस प्रशासन पूर्णतः निष्क्रीय रहा। मौलना मदनी ने कहा कि जमीयत कानूनी पहलुओं पर विचार कर रही है और अगर कानूनी कार्यवाही संतोषजनक नहीं रही तो जमीयत दंगा पीड़ितों की कानूनी लड़ाई भी लड़ेगी और सरकार जिन जिन दोषियों को बचाने का प्रयास कर रही है उनको सजा दिलाने के लिए कोर्ट तक ले जाएगी।

अंत में मदनी ने कहा कि जमीयत हमेशा से ही हिन्दू मुस्लिम दृष्टिकोण से ऊपर मानवता और भाईचारे की बुनियाद पर काम करती रही है और वो दिल्ली दंगो में पीड़ित हर परिवार के साथ हर स्तर पर खड़ी हैं और वो पीड़ित फिर से अपनी सामान्य जीवन व्यतीत कर सके इसके लिए हर तरह से मदद देगी.