कोरोना वायरस के संक्रमण एवं उसकी भयावहता को देखते हुए लिए गए कई अहम् फैसले

समस्तीपुर। (मोहम्मद जमशेद)। कोरोना वायरस के संक्रमण एवं उसकी भयावहता को देखते हुए जहां पूरा भारत अब अलर्ट मोड में आ गया है वहीं दूसरी तरफ स्थानीय समस्तीपुर रेल मंडल प्रशासन द्वारा भी नित-नए ऐसे उपाय प्रायोगिक तौर पर लागू किए जा रहे हैं। जिससे की रेल परिसर एवं सम्बंधित क्षेत्रों में लोगों का जुटान कम से कम हो सके। इसी कड़ी में कई फैसले लिए गए। सिनियर डीसीएम सरस्वती चन्द्र के बताया की डीआरएम कार्यालय परिसर की बैरिकेटिंग कर वहाँ आरपीएफ़ की तैनाती कर दी गयी है, अब कोई भी बाहरी व्यक्ति कार्यालय परिसर में प्रवेश नहीं कर सकता है। इतना ही नही मंडल के अन्य स्टेशनों से आनेवाले रेलकर्मियों को समुचित कारण बताए जाने एवं सम्बंधित विभाग से अनुमति मिलने के बाद ही उन्हे कार्यालय में प्रवेश की इजाजत दी जाएगी। सीनियर डीसीएम ने बताया की मंडल के प्रमुख स्टेशनों पर यूटीएस/पीआरएस कार्यालय, जहां से आम यात्रीगण टिकट की बुकिंग कराते हैं, वहाँ प्रत्येक मीटर के बाद मार्किंग कर दी गयी है। साथ ही उदघोषणा के माध्यम से यात्रियों को टिकट लेते समय उन मार्किंग वाली पट्टियों पर ही खड़ा रहने हेतु आग्रह किया जा रहा है। लोग रेल यात्रा बहुत ही आवश्यक हो तभी करें, इसके लिए मंडल के सभी विश्रामालय/ डोरमेट्री को अगले महीने की 15 तारीख तक के लिए पूर्णरूपेण बंद कर दिया गया है एवं मंडल के प्रमुख स्टेशनों के वैसे पीआरएस बुकिंग काउंटर को फिलहाल बंद करने का भी निर्णय मंडल रेल प्रशासन ने ले लिया है, जहां सामान्य दिनों की अपेक्षा काफ़ी कम संख्या में टिकटों की बिक्री हो रही है। दूसरी तरफ लोको रनिंग रेलकर्मी, जिनका इंजन पर चढ़ने से पहले बायोमैट्रिक पद्धति से जांच होती थी, डीएमई (पावर) चंद्रशेखर प्रसाद के निर्देश पर अब मैनुअल जांच हो रही है…