बच्ची की मौत पर रेलवे ने कहा: 10 बजे हुई मौत, 12 बजे से हटाना शुरु किया अतिक्रमण

बच्ची की मौत पर रेलवे ने कहा: 10 बजे हुई मौत, 12 बजे से हटाना शुरु किया अतिक्रमण

शकूरबस्ती की झुग्गी बस्ती में एक बच्चे की मौत की घटना पर रेलवे ने कहा है कि घटना का इसका अतिक्रमण हटाओ मुहिम से कोई सरोकार नहीं है क्योंकि स्थानीय लोगों को इस संबंध में जरूरी नोटिस दे दी गई थी।

रेलवे ने कहा कि कल अतिक्रमण हटाओ मुहिम चलाई गई, क्योंकि रेलवे के नए यात्री टर्मिनल के लिए जमीन की जरूरत थी। रेलवे ने एक बयान में कहा, रेलवे की जमीन खाली कराने के लिए अतिक्रमण करने वालों को पिछले नौ महीने में कई बार नोटिस जारी किया गया। 30 सितंबर 2015 से पहले जगह खाली करने के लिए नोटिस दिया गया था, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।

इसके अनुसार, जमीन खाली करने के लिए कल भी एक नोटिस भेजा गया। पुलिस की सुरक्षा में पूर्वाहन 11 बजकर 50 मिनट पर अतिक्रमण हटाने की प्रक्रिया शुरू की गई और शाम तक इसे पूरा कर लिया गया। इसके अनुसार, पुलिस आरपीएफ और रेलवे के अधिकारी जब मौके पर इकटठा हुए तब उन्हें सुबह करीब 10 बजे वहां की एक झुग्गी में एक बच्चे की मौत का पता चला।

इसके अनुसार, इससे रेलवे का कोई सरोकार नहीं है क्योंकि अतिक्रमण हटाने की प्रक्रिया अपराहन करीब 12 बजे शुरू हुई। स्थिति का आकलन करने के बाद पंजाबी बाग के थाना प्रभारी ईश्वर सिंह ने पूर्वाहन 11 बजकर 50 मिनट पर इसकी अनुमति दी थी।

बयान के अनुसार, पुलिस आरपीएफ और रेलवे अधिकारियों ने संयुक्त रूप से बताया कि अतिक्रमण हटाने की प्रक्रिया शांतिपूर्ण तरीके से हुई और मुहिम की जानकारी डीयूएसआईबी अधिकारियों को थी।

रेलवे ने 500 झुग्गियां तोड़ीं, एसडीएम सस्पेंड

दिल्ली में शनिवार को रेलवे की जमीन पर बनी झुग्गियों पर देर रात तोड़फोड़ की कार्रवाई को अंजाम दिया गया। इसमें 500 झुग्गियां तोड़ी गईं। इस पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नाराजगी जाहिर की। मामले में सीएम ने एसडीएम को निलंबित कर दिया है।

इस संबंध में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रात 11: 59 से 12:09 बजे के बीच चार ट्वीट किए। इसमें उन्होंने कहा, ‘इतनी सर्दी में आज रेलवे वालों ने 500 झुग्गियां तोड़ दीं। एक बच्चे की मौत हो गई। भगवान उन्हें कभी माफ नहीं करेगा। वहां के एसडीएम ने लोगों के लिए उचित इंतजाम नहीं किया। इसलिए उन्हें निलंबित कर रहे हैं। सभी अधिकारियों को इंतजाम करने के लिए कहा है। मैं खुद भी वहीं जा रहा हूं। अभी-अभी रेल मंत्री सुरेश प्रभु से भी बात हुई है। उन्होंने कहा कि मुझे इसकी जानकारी नहीं थी। मैं आश्चर्यचकित हूं।’