कालाबाजारी को लेकर विभिन्न वयवसायिक संघों के प्रतिनिधियों के साथ जिला मजिस्ट्रेट की मिटिंग,किसी भी सूरत में जमाखोरी और कालाबाजारी नहीं चलेगी।डी एम

 

अब्दुल खालिक़ क़ासमी

मुजफ्फरपुर/आज समाहरणालय के सभाकक्ष में विभिन्न व्यवसायिक संघों के प्रतिनिधियों के साथ जिला जिलाधिकारी डॉ चंद्रशेखर सिंह ने बैठक किया एवं लॉक डाउन की स्थिति को देखते हुए उन्हें आवश्यक निर्देश भी दिए गए। बैठक में पेट्रोल पंप के प्रतिनिधि ,गैस वितरक प्रतिनिधि, दवा विक्रेता संघ के प्रतिनिधि एवं आवश्यक खाद्य पदार्थों के थोक विक्रेता संघ के प्रतिनिधि उपस्थित थे। बैठक में जिलाधिकारी और वरीय पुलिस अधीक्षक ने स्पष्ट रूप से थोक विक्रेता संघ के प्रतिनिधियों को हिदायत दी कि किसी भी सूरत में जमाखोरी और कालाबाजारी नहीं चलेगी। अगर ऐसी स्थिति उत्पन्न की जाती है तो आम अवाम के हितों के मद्देनजर सख्त कार्रवाई की जाएगी ।उन्होंने कहा कि खाद्य तेल के थोक विक्रेता पक्की रसीद उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे। जिलाधिकारी ने अनुमंडल पदाधिकारी पूर्वी को निर्देश दिया की रोजमर्रा के आवश्यक खाद्य पदार्थों की कीमत थोक विक्रेताओं से हासिल कर दैनिक रूप से प् प्रतिवेदित करें ताकि इसकी सूचना आम आदमी को दी जा सके ।वही गैस वितरक के प्रतिनिधियों को हिदायत दी गई की गैसों की उपलब्धता उपभोक्ताओं को होम डिलीवरी के माध्यम से सुनिश्चित करें। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिया अपने कार्यालय या गोदाम पर अनावश्यक भीड़ नहीं लगाएं ।साथ ही यदि ऑनलाइन पेमेंट उपभोक्ताओं के द्वारा की जा रही है तो उसे स्वीकार करें। बैठक में उन्हें निर्देश दिया कि गैसों की उपलब्धता/ गैस सिलेंडर की उपलब्धता पॉइंट डिलीवरी के माध्यम से कदापि नहीं करें। ऐसी सूचना प्राप्त होने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी ।ऑनलाइन बुकिंग एवं होम डिलीवरी को बढ़ावा दें।साथ ही उन्हें आश्वासन भी दिया गया कि गैसों की होम डिलीवरी स्मूदली हो इस बाबत प्रशासन हर संभव उनकी मदद करेगा । गैस एजेंसी के प्रतिनिधियों के द्वारा बताया गया कि वे प्रशासन के साथ हैं ।वर्तमान में गैस की कोई किल्लत नहीं है। कहा कि होम डिलीवरी को बढ़ावा दिया जाएगा ।वही पेट्रोल पंप मालिकों ने प्रशासन से अनुरोध किया कि पेट्रोल पंप के संचालन में कोई बाधा नहीं है ।कहा कि कहीं -कहीं लॉक डाउन के नाम पर कठिनाइयां उत्पन्न हो रही है। इस पर डीएम ने उन्हें आश्वासन दिया कि ऐसी कोई समस्या उत्पन्न नहीं होगी। बैठक में खुदरा विक्रेताओं के बारे में कहा गया कि आवश्यक वस्तुओं की कीमत अधिक वसूलने पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।