लॉकडाउन में गरीबों का सहारा बने वारिस खान

 

आमस

समूचा देश इस वक़्त कोरोना काल से गुज़र रहा है। कोरोना पर काबू पाने के लिए सरकार ने देशभर में 23 मार्च से ही कम्पलीट लॉकडाउन की घोषणा कर चुकी है ताकि बढ़ते संक्रमण को आसानी से रोका जा सके। परन्तु लॉकडाउन की समय सीमा जैसे-जैसे बढ़ता जा रहा है दिहाड़ी मज़दूरों, रिक्शा व ठेला चालकों, गरीब और असहाय लोगों के जीविकोपार्जन का समस्या गहराता जा रहा है। गरीबों की इस पीड़ा को महसूस करते हुए प्रखण्ड के हमज़ापुर निवासी सह जदयू नेता वारिस अली खान लगातार उनके बीच राहत सामग्री का वितरण कर रहे हैं। इसी कड़ी में वारिस खान ने गुरुवार को अपने अपने आवास पर करीब ढाई सौ रोज़ेदारों के बीच रमज़ान किट का वितरण किया। जदयू के अल्पसंख्यक प्रदेश महासचिव वारिस अली खान ने बताया इस्लामिक कैलेंडर का सबसे पवित्र महीना रमज़ान शुरू होने के बाद से ही हर पाँच दिन के अंतराल में इलाके के सैकड़ों रोज़ेदारों को रमज़ान किट देने का कार्य जारी है। इसी के तहत गुरुवार को भी अनुमण्डल के दर्जनों गाँव से आये हुए ढाई सौ गरीबो को रमज़ान किट दिया गया है। जिसमें चावल, आलू, गुड़ और तरबूज़ शामिल है। श्री खान ने कहा कि लॉकडाउन ख़त्म होने से पूर्व तक यह राहत का कार्य जारी रहेगा ताकि कोई ग़रीब भूखा न सोये। उल्लेखनीय हो कि उक्त जदयू नेता के द्वारा जीटी रोड पर पैदल जा रहे प्रवासी मज़दूरों और राहगीरों के लिए पियाऊ और नाश्ता का स्टॉल भी लगा गया है। जहाँ प्रतिदिन सैंकड़ो राहगीरों को पानी, शर्बत, बिस्किट आदि दिया जा रहा है। इस नेक काम मे समाजसेवी आबिद सेराज अंसारी, इमरान खान, फ़िरोज़ खान आदि भी इनका सहयोग कर रहे हैं।