ग़ज़ल:ये रौशनी जो तुम्हारी आंखों से मेरे दिल तक कतार मांगे