Headlines

हेडली गवाही: हाफिज सईद को ‘अंकल’ और लखवी को ‘फ्रेंड’ बोलता था

नई दिल्‍ली, 26/11 मुंबई हमला मामले में पाकिस्तानी-अमेरिकी आतंकवादी डेविड कोलमैन हेडली ने शनिवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए मुंबई की एक विशेष अदालत को बताया कि वह हाफिज सईद के लिए अंकल और जकीउर रहमान लखवी के लिए फ्रेंड शब्द का इस्तेमाल करता था।

हेडली ने बताया कि 26/11 हमलों के बाद वह लश्कर-ए-तैयबा के साजिद मीर के साथ लगातार संपर्क में था और वह हाफिज सईद एवं जकी-उर-रहमान लखवी की सुरक्षा को लेकर चिंतित था।

उसने बताया कि gulati22@hotmail.com उसका ईमेल आईडी था और rare.lemon@gmail.com साजिद मीर का ईमेल आईडी था। दोनों इसके जरिए बातचीत करते थे। उसने 8 जुलाई को लश्कर के साजिद मीर को एक मेल किया था, जिसमें उसने पूछा था कि क्या अंकल और उसके फ्रेंड की समस्याओं का समाधान हुआ?

उसने बताया कि मुबई हमले के बाद पाकिस्तान सरकार ने जांच शुरु कर दिया था। इस मामले में लश्कर के कई लोगों से पूछताछ हुई थी, इसलिए उसने यह मेल भेजा था। तब मीर ने कहा था कि तुम्हारे अंकल को कुछ नहीं होगा।

हेडली ने अदालत को बताया कि आईएसआई के मेजर इकबाल ने उससे पुणे स्थित भारतीय सेना के दक्षिणी कमान मुख्यालय जाने के लिए कहा था। मेजर इकबाल चाहता था कि सेना की गोपनीय सूचना साझा करने वाला कोई व्यक्ति नियुक्त किया जाए।

इससे पहले शुक्रवार को उसने बताया था कि आतंकियों के निशाने पर बाल ठाकरे और शिवसेना भवन भी था। उसने शिवसेना भवन के अंदर दाखिल होने के लिए उद्घव ठाकरे के पीआरओ राजाराम रेगे से गहरी दोस्ती की थी। उससे उसकी मुलाकात दादर के शिवसेना मुख्यालय में हुई थी। रेगे से दोस्ती के लिए साजिद मीर ने कहा था।