शेरघाटी में चुनावी शंखनाद शुरू, टिक्का खान ने नक्सल प्रभावित इलाके में किया सभा

 

शेरघाटी/गया

अनुमण्डल के आमस प्रखण्ड अंतर्गत रेंगनिया गांव निवासी जयराम मांझी की बीते दिनों दिल्ली में करंट लगने से मौत ही गई थी तथा इसी गांव के ननकू सिंह और उनकी पत्नी रेणुका देवी की भी मौत बीते एक सप्ताह सड़क हादसे में जान चली गई थी। जिसकी सूचना मिलने पर जन अधिकार पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष व शेरघाटी विधानसभा से अपनी उम्मीदवारी ठोक रहे उमैर उर्फ टिक्का खान ने मंगलवार को पीड़ित परिवार के घर जाकर मुलाकात किया और जयराम मांझी के परिवार को आर्थिक मदद दिया। इस दौरान उक्त गांव की जीविका दीदियों ने जाप नेता को अपनी समस्या से रूबरू कराया। जीविका समूह की दीदीयों ने बताया कि हमलोगों ने जीविका से लोन लिया था। जिसे लॉकडाउन के कारण चुकाने में असमर्थ हैं। परंतु जीविका के अधिकारी हमलोगों पर लोन चुकाने का दबाव बना रहे हैं। वहीं नक्सल प्रभावित पहाड़ के तलहट्टी में बसे बघमरवा गांव में आयोजित एक सभा को संबोधित करते हुए टिक्का खान ने कहा कि सूबे के मुखिया विकाश का ढिंढोरा पिट रहे हैं परन्तु यह गाँव आज भी मुलसुविधा से वंचित हैं। इस मौके पर राजेश दास, उदित सिंह भोक्ता, सुजीत कुमार दास, रामजीत भोक्ता, अखिलेश चौधरी, रामावतार मांझी, अजय यादव समेत काफी संख्या में लोग उपस्थित थे।