Headlines

अघोराचार्य बाबा किनाराम की अवतरण दिवस पर होगा गरीबो का इलाज व सहयोग

अघोराचार्य बाबा किनाराम की अवतरण दिवस पर होगा गरीबो का इलाज व सहयोग

गाजीपुर – औघढ़ समाज के परमपूज्य अघोराचार्य अवधूत भगवान राम बाबा किनाराम के अवतरण दिवस के मौके पर 09 सितम्बर को सर्वेश्वरी सेवा समूह की तरफ से गरीबो व असहायो के सहयोग के लिये विशाल स्वास्थ्य शिविर का आयोजन गाजीपुर जनपद में स्थित नगर के दक्षिणी पूर्वी छोर पर स्थित सिद्धपीठ बौढहिया मठ पर आयोजित किया गया है। इस मौके पर मठ की ओर से अन्य कई जनकल्याण के कार्यक्रम आयोजित किये जायेगें। कार्यक्रम की जिम्मेदारी समूह के संरक्षक संजय सिंह ने उठायी है।
किवदतिंयों की माने तो तकरीबन एक हजार साल पूर्व से यह सिद्धपीठ जिला मुख्यालय पर स्थित है। यहंा अवधूत भगवान राम जी आ चुके है। प्राचीनकाल में जब यहंा राजा गाधि का शासन था तब यहंा महराज का किला हुआ करता था और औघढ़ समाज के गुरू बाबा किनाराम जी यहंा आते जाते रहते थे। हजारो साल से इस मठ में औघढ़ समाज का आना जाना रहता है। कुछ साल पूर्व ही मठ के जर्जर हो चुके संसाधनों व निर्माण कार्यो को बेहतर तरीके से संचालित करने व व्यवस्थित करने का जिम्मा सर्वेश्वरी समूह ने उठाया था और दो सालो में मठ के खण्डहर को नवीन रूप देकर एक नया इतिहास लिख दिया गया।

किनाराम के अवतरण दिवस पर हर साल होता है कार्यक्रम
सर्वेश्वरी समूह के सरंक्षक संजय सिंह ने बताया कि हर वर्ष अघोराचार्य बाबा किनाराम जी के अवतरण दिवस के अवसर पर यहंा गरीबो व असहायो को मेडिकल के साथ-साथ अन्य सुविधायें उपलब्ध करायी जाती है। हर रविवार की शाम यहंा बाबा की आरती होती है। इसमे नगर समेत प्रदेश के तमाम इलाको से आने वाला औघढ़ समूह भी जुटता है। मठ की महत्ता व तेज का आलम यह है कि यहंा आने वाले हर व्यक्ति को सुकुन के साथ-साथ जिन्दगी में सतकर्मो के आधार पर आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती हैं।

हजारो साल से औघढ़ समाज यहॅंा टेकता है माथा
नगर के प्रबुद्धो व धर्मावलम्बियों की माने तो यह परमपूज्य किनाराम बाबा की स्थली लम्बे समय से गरीबो व असहायो के साथ-साथ साधको का प्रिय स्थान माना जाता हैं। मठ परिसर में सैकड़ो लोगो के रूकने व खाने का भी इंतजाम है। हर सप्ताह रविवार की बाबा की महा आरती में हर धर्म व समुदाय से जुड़े नर-नारियेां का सैलाब उमड़ता है और लोग साधना के बाद आर्शीवाद लेकर अपनी आगे की मंजिल तय करते है। कुल मिलाकर भक्ति व तेज की पराकाष्ठा यहंा देखने को मिलती है।

हजारो साल पुरानी खोपड़ियों व बाबा के खड़ाऊ की होती है पूजा
अति प्राचीन बौढ़हिया सिद्धपीठ में आज ही हजारो साल पुरानी मानव खोपड़िया आसानी से मिल जायेगी। मठ का तेज और प्रताप ही कहा जायेगा कि हजारो साल से मौजूद इन मानव कंकालो पर न तो मौसम की मार पड़ती है और न ही प्रकृति का असर होता हैं। बाबा का खड़ाऊ और बाबा की माला आज भी मठ में मौजूद है और औघढ़ समाज के साथ-साथ सर्वसमाज के लोगो के भक्ति व साधना का प्रमुख केन्द्र बना हुआ है और कुछ सालो से सर्वेश्वरी समूह की देखरेख में यहंा की रौनकता बढ़ गयी है।

हर रोग के बड़े चिकित्सक करेगें इलाज मिलेगी निःशुल्क दवा
सर्वेश्वरी समूह के सरंक्षक संजय सिंह ने बताया कि दिल्ली कलकत्ता के साथ-साथ बड़े शहरों में काम करने वाले व दर्जन भर गम्भीर बीमारियों के जानकार चिकित्सक अवतरण दिवस के दिन यहंा सेवा देगें और हर मरीज को बेहतर इलाज की सुविधा देेने के साथ-2 लोगो को मेडिसीन भी उपलब्ध कराये जायेगें। ताकि उनकी बीमारियों को जड़ से समाप्त किया जा सके। इस मौके पर गरीबो को खाना, वस्त्र व अन्य जरूरी सुविधायें भी उपलब्ध करायी जायेगी।