वोट डालकर प्रियंका गांधी ने सुनाई दिलचस्प कहानी निशाने पर रहे पीएम मोदी

वोट डालकर प्रियंका गांधी ने सुनाई दिलचस्प कहानी निशाने पर रहे पीएम मोदी
नई दिल्ली से(जियाउद्दीन अहमद अली सिद्दीकी)संवाददाता की रिपोर्ट राहुल और सोनिया गांधी के मतदान करके लौटने के बाद प्रियंका गांधी अपने पति रॉबर्ट वाड्रा के साथ वोट करने पहुंची इस दौरान जब वह अंदर जा रही थीं तो उन्होंने एक बच्ची से हाथ मिलाया वहीं जब वह वापस आईं तो एक बुजुर्ग औरत के साथ तस्वीरें खिंचवाईं उन्होंने उस बुजुर्ग महिला से आशीर्वाद भी लिया और पीएम नरेंद्र मोदी पर भी हमला बोला आगे की स्लाइड्स में देखिए प्रियंका ने सुनाई दिलचस्प कहानी उसके बहाने उन्होंने पीएम मोदी पर तंज भी कसा
पत्रकार काफी देर तक प्रियंका की बाइट लेने के लिए उनके पीछे-पीछे चलते रहे लेकिन प्रियंका नहीं रुकीं फिर एक निश्चित दूरी पर जाकर प्रियंका रुकीं और पत्रकारों के सवालों का जवाब दिया उन्होंने कहा कि ये चुनाव लोकतंत्र बचाने का चुनाव है देश बचाने का चुनाव है मैंने इसी उद्देश्य से वोट दिया है आप सब भी वोट डालें
इसके बाद जब उनसे पीएम मोदी के इंटरव्यू के बारे में पूछा गया कि पीएम का आरोप है कि खान मार्केट गैंग उनकी छवि बिगाड़ने की कोशिश कर रहा है उनकी 50 साल की तपस्या है इस पर प्रियंका ने कहा पीएम मोदी ने 50 घंटे तपस्या कर ली होती तो इस तरह नफरत भरी बातें नहीं करनी पड़तीं
जब उनसे पूछा गया कि क्या लगता है चुनाव के बाद क्या होगा तो वह बोलीं स्पष्ट है कि भाजपा की सरकार जा रही है भाजपा परेशान है खासतौर से यूपी में जहां भी मैं गई स्पष्ट है कि भाजपा जा रही है इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पीएम किसी भी बात का जवाब नहीं देते जो वादे किए उस पर कुछ नहीं बोलते इधर-उधर की बातें करते हैं राहुल जी की डिबेट करने की चुनौती का भी जवाब नहीं देते। उन्होंने आगे कहा कि हमने मुद्दों पर बात की जनता की समस्या का हल कैसे होगा इस पर ध्यान दिया है
जब उनसे पूछा गया कि कांग्रेस पार्टी के बारे में, आपके बारे में, राहुल गांधी के बारे में इतना कुछ कहा जाता है आपका क्या कहना है तब प्रियंका ने एक कहानी सुनाई उन्होंने बताया कि जब मैं साधना(विपश्यना) के लिए जाती थी तो मेरे गुरुजी ने एक कहानी सुनाई थी कि एक शख्स गौतम बुद्ध से बहुत नफरत करता था उन्हें गालियां देता रहता था। उसे पता चला था कि गौतम बुद्ध से बहस नहीं करनी है तो जब वह उनके पास गया और बुद्ध ने पूछा कि तुम क्या लाए हो तो उसने बहस न करने की सोची। वह चुप रहा तब गौतम बुद्ध ने उससे पूछा तुम मेरे लिए क्या लाए हो? जो नफरत जो गालियां जो नकरात्मकता तुम मेरे लिए लाए हो जो भी ऐसा उपहार तुम मेरे लिए लाए हो वह तुम अपने पास ही रखो मैं ये सब नहीं लेता ये मेरी पॉलिसी नहीं है यह कहानी सुनाकर ही प्रियंका वहां से चल दीं