Headlines

जानिए अमेरिका के लिए क्यों खास है सुपर ट्यूजडे

जानिए अमेरिका के लिए क्यों खास है सुपर ट्यूजडे

नई दिल्ली,स्टार न्यूज़.टुडे-(हिंदुस्तान),अमेरिका में राष्ट्रपति पद के चुनाव में तमाम अन्य देशों की तरह केवल अमेरिकी नागरिक ही मतदान कर सकते हैं, लेकिन पूरी दुनिया पर पड़ने वाले इसके दूरगामी प्रभावों के कारण दुनिया भर की निगाहें इन चुनावों पर लगी होती हैं।

राष्‍ट्रपति पद के लिए उम्‍मीदवारों के चयन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। अभी तक हुए प्राइमरी और कॉकस में रिपब्लिकन पार्टी की ओर डोनाल्‍ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से हिेलरी क्लिंटन सबसे मजबूत दावेदार नजर आ रहे हैं।

अमेरिकी राजनीति को समझने परखने वाले विशेषज्ञों की नजर में राष्ट्रपति पद के चुनाव सालों से केवल दो ही पार्टियों डेमोकेट्रिक और रिपब्लिक के इर्द गिर्द ही घूमते रहे हैं, लेकिन वहां की चुनाव प्रक्रिया बेहद उलझाऊ प्रतीत होती है जो प्राइमरी, कन्वेंशन, अर्ली पोल और इनोगरेशन तक फैली है। यह प्रक्रिया राष्ट्रपति चुनाव की औपचारिक तिथि से करीब दो साल पहले से शुरू हो जाती है।

1 मार्च यानी आज ‘सुपर ट्यूज डे’ है, जिसमें 13 अमेरिकी राज्‍यों में प्राइमरी चुनाव होना है। जिन प्रांतों में मतदान होना हैं, उनके नाम हैं- अल्‍बामा, अलास्‍का, आरकंसास, कोलोराडो, जॉर्जिया, मैसाच्‍यूसेट्स, ओक्‍लाहोमा, टेक्‍सास, मिनिसोटा, टेन उह सी, वेरमोंट, वर्जिनिया, वायोमिंग। इन 13 राज्‍यों एक यूनियन टेरिटरी में भी प्राइमरी चुनाव होना है।

क्‍या है ‘सुपर ट्यूज डे’
अमेरिका में जब भी राष्‍ट्रपति चुनाव होते हैं, तब सुपर ट्यूज डे यानी 1 मार्च को मतदान जरूर होता है। यह इसलिए भी खास है, क्‍योंकि इस दिन एक साथ कई राज्‍यों में प्राइमरी इलेक्‍शन होता है। साफ शब्‍दों में कहें तो राष्‍ट्रपति पद की उम्‍मीदवारी के लिए अपनी-अपनी पार्टियों में चुनाव लड़ने वालों के लिए यह निर्णायक दिन होता है।

2008 में 24 राज्‍यों में प्राइमरी इलेक्‍शन हुआ था। इस बार एक साथ 14 राज्‍यों में वोट डाले जाएंगे, यानी इसी दिन तय हो जाएगा कि रिपब्लिकन पार्टी की ओर से उम्‍मीदवार कौन होगा और डेमोक्रेट्स किस नेता पर दांव लगाएंगे।

डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्‍मीदवारी हासिल करने के लिए प्रत्‍याशी को 4,763 डेलिगेट्स में से 2,382 का समर्थन हासिल करना होगा। इसी प्रकार से रिपब्लिकन पार्टी की उम्‍मीदवारी हासिल करने के लिए 2,472 में से 1,236 डेलिगेट्स का समर्थन हासिल करना होगा।

प्राइमरी और कॉकस की वोटिंग खत्म हो जाने के बाद जुलाई में रिपब्लिकन पार्टी क्‍लीवलेंड में अपनी नेशनल कन्‍वेंशन की बैठक बुलाएगी, जबकि डेमोक्रेटिक पार्टी फिलाडेल्फिया में।

नेशनल कन्‍वेंशन में दोनों दल अपने-अपने राष्‍ट्रपति पद के उम्‍मीदवार के नाम की घोषणा कर देंगी। उम्‍मीदवारों के चयन के बाद 14 जून तक राष्‍ट्रपति पद के प्रत्‍याशी नामांकन दाखिल कर देंगे और फिर शुरू होगा चुनाव प्रचार। 8 नवंबर को इलेक्‍शन डे होगा, जिसमें जनता वोट डालेगी।

आमतौर पर अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव का प्राइमरी इलेक्शन फरवरी से मार्च के बीच होता है और फिर कुछ सप्ताह बाद ही पार्टियां उम्मीदवार का ऐलान कर देती हैं। यहां से चुनाव प्रचार शुरू होता है और फिर इलेक्शन डे आता है। इस बार अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव 8 नवंबर को होना है। आमतौर पर नवंबर के पहले सप्‍ताह में ही राष्‍ट्रपति पद के लिए चुनाव होता है।